Tuesday, 15 March 2016

दिन विशेष - विश्व उपभोक्ता अधिकार दिन ( 15 March ) - this day in history

दिन विशेष - विश्व उपभोक्ता अधिकार दिन ( 15 March ) - this day in history
4/ 5
Oleh

Share This

welcome to our very famous educational website- kelvani.com

IF You Have not telegram apps click here for download
thanks for visit keep visit again daily for latest update
हेलो फ्रेंड्स,
यहाँ दिन विशेष (DIN VISHESH IN HINDI LANGUAGE, THIS DAY IN HISTORY) की माहिती दी गई हे, ये माहिती आपको आपका  सामान्य ज्ञान को बढ़ाने के लिए , शिक्षक मित्रो को कलासरूममें, शाला के नोटिस बोर्ड पर लगाने ये INFORMATION उपयोगी होगी|
      COMPETITIVE EXAMS (TET,TAT,RAILWAY,TALATI,PSI,GPSC,HTAT,SSC) में दिन विशेष का एक प्रश्न तो होता ही हे, उनको भी ये माहिती बहोत उपयोगी होगी|
 (Din vishesh- 15 march)

1493- भारत शोध ने किये लिए निकला क्रिस्टोफर काेलम्बस अपने विश्व भ्रमण के बाद स्पेन लौटा।
1564- मुग़ल सम्राट अकबरने जजियाकर हटा दिया |

1907 यूरोपीय देश फिनलैंड महिलाओं को वोट देने का अधिकार देने वाला पहला यूरोपीय देश बना ।
1919- आंध्रप्रदेश के हैदराबाद में उस्मानिया विश्वविद्यालय का उद्घाटन हुआ।
1947- आज़ादी के बाद, पंजाब में दंगे भड़के
1964-सोवियत संघ ने पूर्वी कजाखस्तान में परमाणु परीक्षण किया।
1983- पहली बार विश्व उपभोकता दिन मनाया गया
1985- दुनिया का पहला इंटरनेट डोमेन नेम रजिस्टर किया गया डोमेन नेम था- symbolics.com.
1988....आजादी के बाद पहली बार आठ राजनीतिक दलों ने भारत बंद का आह्वान किया। 
1990- मिखाईल गोर्बोचोवने साम्यवादी रशियाके प्रमुख के रूप में चयनित
 2011 - जापान के भूकम्प प्रभावित फुकुशिमा में स्थित क्षतिग्रस्त परमाणु ऊर्जा संयंत्र के तीन इकाइयों में विस्फोट होने और चौथी इकाई में आग लगने के बाद रेडियोधर्मी विकिरण भयजनक पर  स्तर तक पहुंच गया।

जन्मदिन-

1838- एलाईस कनिग्हम फलेचर (भारतीय सामाजिक विज्ञानी)
1934- कांची राम ( राजकारणी, बहुजन समाज पार्टी के स्थापक )
1963- तरुण तेजपाल ( तहेलका मेगेजिन के स्थापक)
1976-  अभय देओल (हिंदी फिल्म एक्टर )

दिन विशेष – विश्व उपभोकता अधिकार दिन ( world consumer right day , world consumer protection day )

उपभोकता अपने हक़ से जागरूक हो और उपभोकता को अपने अधिकारों से जागृत बनाने के लिए प्रतिवर्ष 15 मी मार्च के दिन विश्व उपभोकता दिन मनाया जाता हे |1983 में पहली  बार मनाया गया था |

उपभोकता संरक्षण का इतिहास-

उपभोक्ता अधिकार आन्दोलन की शरुआत दुसरे विश्व युध्ध के बाद इंग्लेंड में हुई थी बल्कि उपभोक्ता अधिकार की पहली बार घोषणा 1962 में संयुकत अमेरिकामें की गई | उपभोक्ता अधिकार आन्दोलन के सक्रीय व्यक्ति ‘राल्फ नादर’ को उपभोक्ता सुरक्षा का जनक मन जाता है |
चीजों की गुणवत्ता के लिए अंतर्राष्ट्रीय संस्था ISO जिनीवा में कार्यरत है, जिसकी स्थापना १९४७ में की गई थी | आपने चीजों पर  ISO 6000, ISO 9000, ISO 14000  या ISO 9100 लेबल देखा होगा, ये लेबल सूचित करता हे की ये अन्तराष्ट्रीय स्तर पर बिकती हुए विशिष्ठ एवं उंच्च गुणवत्ता वाली चीज है |
अंतराष्ट्रीय खाद्य पदार्थो को प्रमाणित करने के लिए ‘कोडेक्स एलीमेटेरियम कमीशन’ (CAC) नामक संस्था है जिनकी स्थापना 1963 में ‘खाध्य एवं कृषि संगठन’ (FAO) और विश्व स्वाथ्य संगठन (WHO) द्वारा की गई |
  भारतमें पुराने ज़माने से उपभोक्ता सुरक्षा का ख्याल अस्तित्वमे हे , कौटिल्य के अर्थशास्त्र में भी उपभोक्ता सुरक्षा की बात कही गई है | आज़ादी के बाद भारत सरकार ने उपभोक्ता की सुरक्षा के लिए ‘उपभोक्ता सरंक्षण अधिनियम- 1986’ लागु किया है |

उपभोक्ता अधिकार दिन 15 मार्च के दिन ही क्यों?

   15 march 1962 में अमेरिका के प्रमुख जहोन एफ. केनेडीने उपभोक्ता के चार अधिकार की बात कही थी और बाद में इसे कई देशो की सरकारों ने अंतराष्ट्रीय स्तर पर मान्यता दी |इसी लिए 15 मार्च को दिन विश्व उपभोक्ता दिन मनाया जाता है , बाद में यु.एन ने उपभोक्ता के अधिकारों की सूचि जाहिर की उसमे ६ अधिकारों की बात की गई |

उपभोक्ता के अधिकारों :
-      
  जरूरियात के संतोष के अधिकार ( THE RIGHT TO THE SATISFACTION OF BASIC NEEDS)
-    सलामती का अधिकार (THE RIGHT TO SAFETY)
-    माहिती का अधिकार ( THE RIGHT TO BE INFORMED )
-    पसंदगी का अधिकार (THE RIGHT TO CHOICE )
-    श्रवण का अधिकार (THE RIGHT TO BE HEARD)
-    नुकसानी में भरपाई का अधिकार (THE RIGHT TO REDRESS)
-    शिक्षा का अधिकार ( THE RIGHT TO CONSUMER EDUCATION)
-    तंदुरस्त पर्यावरण का अधिकार (THE RIGHT TO HEALTHY ENVIROMENT )

यंहा करे शिकायत :

1972 में उपभोक्ता कार्यक्रम की शरुआत भारत में की गई 1986 के उपभोक्ता संरक्षण अधिनियम अंतर्गत उपभोक्ता की शिकायतों के निकाल के लिए त्रि-स्तरीय व्यवस्था की गए...
-    20 लाख रु. की शिकायत के लिए जिला फोरम
-    20 लाख रु. से 1 करोड़ रु तक की शिकायत के लिए राज्य उपभोक्ता आयोग.
-    1 करोड़ रु. से अधिक  की शिकायत के लिए राष्ट्रिय उपभोक्ता आयोग.


हमारी वेबसाइट द्वारा दिन विशेष हररोज अपडेट किया जाता हे , हररोज दिन विशेष पाने के लिए हमारा फेसबुक पेज को लाइक कीजिये : यहाँ कलिक कीजिये
 
दिन विशेष की पुरानी पोस्ट पढने के लिए : यंहा क्लिक कीजिये 


लेखक-युवराज दियोरा-लेखक की परवानगी बिना ये लेख रिप्रोडूस नहीं किया जा सकता हे |

Our website is daily update about
primery school letest circular(paripatra),material , Educational news paper news, Breking news , all Government like tet,htat,gpsc,gaun seva pasangi mandal, police and private job
...
Letest Mobile tips and all Competitive exam most imp gk, model paper, exam old and model paper, materials so keep visiting our website.......
Category: Short URLs And Share: goo.gl

Share Post


Related Posts

avatar
Yuvraj Dihora

Follow Me On:

i am teacher and founder of kelvani.com, muze help karni pasand he , if you have any quetion related to education , plz comment box me comment kare.

Receive Quality Articles Straight in your Inbox by submitting your Email below.